साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन (प्रणेता: पं. देवनारायण भारद्वाज) - Forum
Arya Samaj
[ New messages · Members · Forum rules · Search · RSS ]
Page 1 of 11
Forum » Vaidik Dharma » Upanishads, Darshan and other scriptures » साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन (प्रणेता: पं. देवनारायण भारद्वाज) (साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन from rajendra arya ji)
साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन (प्रणेता: पं. देवनारायण भारद्वाज)
shubham123Date: Friday, 2011-11-11, 10:33 PM | Message # 1
Private
Group: Administrators
Messages: 4
Reputation: 0
Status: Offline
ओ३म् उप त्वाग्ने दिवे दिवे दोषावस्तर्धिया वयम् ।
नमो भरन्त एमसि । ।।साम १४ ।।


प्रभु तुम्हें नमन प्रभु तुम्हें नमन ।
मेरे प्यारे प्रभु तुम्हें नमन ।।

मैंने इस दुनिया को देखा ।
देखा जड चेतन का लेखा ।
देखी प्रभु की सर्वत्र देन,
तन मन धन बुद्धि और जीवन ।।

तुम्हें तुम्हारा अर्पण कैसा ।
अपने पास नहीं कुछ ऐसा ।
एक नमन ही अपना ठहरा,
प्रभु तुम्हें समर्पित यही नमन ।।

दिन रात नित्य सन्ध्या प्रभात ।
मन में मँडराती यही बात ।
हर समय नाथ का साथ रहे,
यह माथ नमन में रहे मगन ।।

राजेन्द्र आर्य
संगरूर
9041342483
 
Forum » Vaidik Dharma » Upanishads, Darshan and other scriptures » साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन (प्रणेता: पं. देवनारायण भारद्वाज) (साम- श्रद्धा : प्रभु तुम्हें नमन from rajendra arya ji)
Page 1 of 11
Search:

Copyright MyCorp © 2016 Make a free website with uCoz